बड़ी खबर : तो क्या संकट में त्रिवेंद्र सरकार!

831
बीजेपी मुख्यालय में मंत्री के सामने जहर खाने वाले ट्रांपोर्टर की मौत का मामला हो या मृतक के परिजनों को मुआवजा देने में त्रिवेंद्र सरकार द्वारा आनाकानी करने के मामले को लेकर जंहा विपक्ष सरकार को घेरने में लगा है। वंही इस मामले में भाजपा विधायक ने पत्र लिखकर अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कहा जा रहा है की त्रिवेंद्र सरकार में इन दिनों सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है, सूत्रों के मुताबिक भाजपा के कुछ विधायक लामबंद हो गए है, यही विधायक एक रणनीति बनाकर अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल सकते है। वंही प्रदेश अध्यक्ष गाहे-बगाहे बयानबाजी कर त्रिवेंद्र सरकार की कार्य-प्रणाली पर सवाल उठाते नजर आ रहे है।
 कैबिनेट में खाली दो मंत्री पद न भरे जाने पार्टी विधायकों में नाराजगी!
त्रिवेंद्र सरकार की कैबिनेट में खाली दो मंत्री पद न भरे जाने, पदाधिकारियों को दायित्व न बांटे जाने का असंतोष की वजह भी त्रिवेंद्र सरकार में देखी जा रही है। सरकार बने करीब एक साल होने वाला है, बावजूद इसके कैबिनेट में खाली दो मंत्री पद अभी तक नहीं भरे गए है। जबकि मंत्री पद के लिए भाजपा के कई विधायक अपनी ताल-ठोक चुके है। वंही दायित्व न बांटने से पार्टी कार्यकर्ताओ में नाराजगी देखने को मिल रही है।
 ट्रांसपोर्टर प्रकाश पांडेय की मौत पर विपक्ष हुआ हमलावर!
हल्द्वानी के मृतक ट्रांसपेाटर्र प्रकाश पांडेय की आत्महत्या मामले में सियासत गरमा गई है. प्रकाश पांडेय की मौत के बाद डीएम नैनीताल ने उनके परिवार को 12 लाख की मदद और मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी देने की घोषणा की थी. उसके बाद ही परिवार वाले प्रकाश पांडेय के अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए थे. लेकिन अब सीएम द्वारा ऐसा कोई भी आदेश जारी होने से मना करने पर मामले ने तूल पकड़ लिया  है। कांग्रेस ने सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल राजभवन पहुंचकर राज्यपाल से मिलकर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा। नेता प्रतिपक्ष ने यंहा तक एलान कर दिया है कि भले ही राज्य सरकार मृतक ट्रांस्पोर्टर के परिजनों को मुआवजा देने में आनाकानी कर रही हो, लेकिन वो मृतक प्रकाश पांडेय के बच्चे का भविष्य में शिक्षा का पूरा खर्चा उठाएंगी।
भाजपा विधायक ने अपनी ही सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा! 
ट्रांसपोर्टर प्रकाश पांडे के परिजनों को मुआवजा देने में आनाकानी करने पर कालाढूंगी के भाजपा विधायक बंशीधर भगत ने त्रिवेंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को पत्र भेजकर उनको याद दिलाया है कि उनसे हुई वार्ता के बाद प्रकाश पांडे के परिजनों को 10 लाख रुपये का मुआवजा देने का एलान किया गया था। इसके बाद ही परिजनों ने शांतिपूर्ण तरीके से प्रकाश पांडे का अंतिम संस्कार कर दिया था। वादे के मुताबिक उन्होंने पांडे के परिजनों को मुआवजा की राशि प्रदान करने की मांग की है। तब विधायक बंशीधर भगत ने ही उनके परिजनों को 10 लाख रुपये का मुआवजा देने का एलान किया था। हालांकि सरकार की ओर से अभी तक इस बारे में अधिकृत तौर पर कुछ नहीं कहा गया है।
वंही पूर्व भाजपाई नेता रघूनाथ सिंह नेगी सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को घेरने का कोई मौका नहीं चूकते। भाजपा के ही पूर्व राज्यमंत्री और जन संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पर करोड़ों रुपए के भूखंड खरीदने के आरोप के साथ साथ हलफनामे में गलत आयु दर्ज कराने समेत तमाम आरोप लगाते रहे है। चर्चाएं तो यंहा तक है कि रघुनाथ सिंह नेगी भाजपा के कुछ वरिष्ट नेताओ के इशारो पर काम कर रहे है. देखना यह होगा त्रिवेंद्र सिंह रावत इन मुश्किलों से कैसे निकल पाते है।
वंही विपक्ष ट्रांसपोर्टर प्रकाश पांडेय की मौत के मामले को तूल देकर त्रिवेंद्र सरकार को घेरने में जुटी हुई है। दूसरी तरफ सूत्रों की माने तो भाजपा के कुछ विधायक और नेता अंदर खाने सरकार की परेशानी बढ़ा सकते है। चर्चाओ का बाजार गर्म है कि इस समय त्रिवेंद्र सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे है।
नोट : खबर पसंद आए तो लाइक और शेयर जरुर करें…….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here