शहीद दिवस: देश के इन वीरों को शत-शत नमन!

208

                                         ऐ मेरे वतन के लोगों, जरा आँख में भर लो पानी ।                                                                               जो शहीद हुए हैं उनकी जरा यद् करो कुर्वानी ।।

23 मार्च 1931 की रात भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की देश-भक्ति को अपराध की संज्ञा देकर फाँसी पर लटका दिया गया। जानकारों की माने तो मृत्युदंड के लिए 24 मार्च की सुबह तय की गई थी लेकिन किसी बड़े जनाक्रोश की आशंका से डरी हुई अँग्रेज़ सरकार ने 23 मार्च की रात को ही इन क्रांति-वीरों को फाँसी दे दी । रात के अँधेरे में ही सतलुज के किनारे इनका अंतिम संस्कार भी कर दिया गया।

‘लाहौर षड़यंत्र’ के मुक़दमे में भगतसिंह को फाँसी की सज़ा दी गई थी तथा केवल 24 वर्ष की आयु में ही, 23 मार्च 1931 की रात में उन्होंने हँसते-हँसते, ‘इनक़लाब ज़िदाबाद’ के नारे लगाते हुए फाँसी के फंदे को चूम लिया।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here