हरिद्वार- महाकुंभ में कोरोना  जांच में  हुआ फर्जीवाड़ा काफी चर्चित रहा।  जिसकी जांच के लिए सरकार ने एसआईटी गठित की। लंबी जांच के बाद एसआईटी ने मामले  में पहली गिरफ्तारी कर ली है।पकड़ा गया आरोपी डाटा फिडिंग का काम देख रहा था। जिसमें फर्जी तरीके से कोरोना टेस्ट किए बिना ही पोर्टल पर फर्जी एंट्री की थी। एसआईटी के जांच अधिकारी राजेश शाह ने बताया कि एक व्यक्ति को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है।

कुंभ के दौरान कोविड जांच फर्जीवाड़े मामले में एसआईटी ने बुधवार को फिर से आरोपी बनाए गए कई लोगों से पूछताछ की थी। एसआईटी सैंपल कलेक्टरों व स्वास्थ्य मेला विभाग की ओर से बनाए गए सेक्टर प्रभारियों से पूछताछ कर चुकी है।
कुंभ मेले के दौरान हुए कोरोना जांच के फर्जीवाड़े में एसआईटी की टीम पिछले चार दिनों से सैंपल कलेक्टरों व मेला स्वास्थ्य विभाग द्वारा मेला के दौरान सेक्टर प्रभारी बनाए गए चिकित्सकों से पूछताछ कर रही थी। बुधवार को एसआईटी ने फिर से कोरोना जांच के फर्जीवाड़े में आरोपी बनाए गए लोगों से पूछताछ की।

बताया जा रहा है कि एसआईटी की टीम द्वारा किए गए डाटा की जांच के बाद इन लोगों को फिर से पूछताछ के लिए बुलाया गया था। इस मामले में मैक्स कॉरपोरेट सर्विस, नलवा लैब हिसार व डॉक्टर लाल चंदानी लैब को सीएमओ हरिद्वार डॉ. एसके झा की तहरीर पर नामजद करते हुए मुकदमा दर्ज है।

एसआईटी ने मेला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी से भी इस मामले में पूछताछ की थी। वहीं उनके कार्यालय से पिछले दिनो रिकॉर्ड भी अपने कब्जे में लिए थे। जांच अधिकारी राजेश शाह ने बताया कि बुधवार को कुछ लोगों से पूछताछ की गई थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here